SI सीताराम बिश्नोई सेवा के अंतिम दिन निरीक्षक के पद पर पदोन्नत होकर हुए सेवानिवृत्त | Bishnoism

SI सीताराम बिश्नोई सेवा के अंतिम दिन निरीक्षक के पद पर पदोन्नत होकर हुए सेवानिवृत्त.

SI सीताराम बिश्नोई सेवा के अंतिम दिन निरीक्षक के पद पर पदोन्नत होकर हुए सेवानिवृत्त | Bishnoism


बिश्नोइज्म, हिसार। सिपाही से भर्ती होकर 38 वर्षो से पुलिस विभाग में सराहनीय सेवा करने वाले उपनिरीक्षक सीतराम बिश्नोई के निरीक्षक पद पर पदोन्नत होने पर एसपी गंगाराम ने कंधे पर स्टार लगाकर उन्हें सम्मानित किया। सुबह पदोन्नति के बाद शाम को 38 साल की सेवाकाल के बाद वे रिटायर हुए। आदमपुर शिव कालोनी निवासी सीताराम बिश्नोई 1 सितंबर 1982 को सिपाही के पद पर नियुक्त हुए थे। करीब 5 साल पहले एएसआइ से सब इंस्पेक्टर के पद पर पदोन्नत हुए थे। रिटायमेंट के दिन एसआइ से इंस्पेक्टर बने सीताराम कुछ माह से हिसार महिला थाने में तैनात थे। सीताराम को इंस्पेक्टर बनाए जाने पर एसपी गंगाराम पूनिया ने उनके कार्यो की सराहना की। एसपी ने कंधे पर स्टार लगाकर उन्हें सम्मानित किया। इस दौरान महिला थाने से अधिकारियों व कर्मियों द्वारा विदाई दी गई। हिसार की डीएसपी भारती डबास, महिला थाना प्रभारी सुनीता व अन्य पुलिस कर्मियों ने बधाई देते हुए लंबी आयु की कामना की।


तीन माह पहले हुए थे कोरोना संक्रमित

सीताराम बिश्नोई तीन माह पहले एक जून को कोरोना संक्रमित हो गए थे। 10 जून को वह स्वस्थ होकर घर लौटे थे। सीताराम का कहना है कि सेवानिवृत्ति के बाद अब वे समाजसेवा करेंगे। उनकी इस सोच को भी सभी पुलिसकर्मियों ने सराहा। बता दें कि रिटायरमेंट के दिन प्रमोशन मिलने का विरला ही केस सामने आता है। हालांकि तरक्‍की चाहे एक दिन की हो या कई सालों की वो हमेशा याद रहती है।

इंस्‍पेक्‍टर बनना और कंधे पर तीन स्‍टार लगना निजी जिंदगी में उत्‍साह देने के साथ दस्‍तावेजों में भी प्रोफाइल बदल देता है। ऐसा ही इंस्‍पेक्‍टर सीताराम बिश्‍नोई के साथ भी हुआ है। वहां मौजूद अन्‍य पुलिसकर्मी भी इस अनोखी प्रमोशन के बारे में बात करते नजर आए। विभिन्‍न आयोजनों के तहत किसी सामान्‍य व्‍यक्ति को तो एक दिन के लिए कोई पद दिया जाता है। मगर असलियत में ऐसा बहुत कम होता है कि किसी को एक दिन के लिए स्‍थाई पद मिलता है।

Post a Comment

0 Comments