वन महोत्सव मना कर लगाए 500 पौधे ओर्गेनिक कृषिफार्म का लोकार्पण

वन महोत्सव मना कर लगाए 500 पौधे
ओर्गेनिक कृषिफार्म का लोकार्पण


नागौर। निकटवर्ती ग्राम गंठिलासर की सीमा में आज जिला कलेक्टर डॉक्टर जितेन्द्र कुमार सोनी के मुख्य आतिथ्य  में गरिमामय वन महोत्सव मनाया गया जिसमें 500 छायादार पौधे लगाए गए ।
वन महोत्सव मना कर लगाए 500 पौधे ओर्गेनिक कृषिफार्म का लोकार्पण

   जिला कलेक्टर ने इस आयोजन के लिए  पद्मश्री हिम्मताराम  भाम्भू एवं गंठिलासर के मोहन राम बरड़वा परिवार को धन्यवाद दिया ।
 उन्होंने कहा कि राजस्थान रेतीला क्षेत्र है ,यहां पानी का अभाव होने से पौधों की कमी है, हमें उस सुखे की छवि को बदलकर राजस्थान को हरा भरा बनाना है।
        जिला कलेक्टर ने कहा कि पेड़ बढ़ने से क्षेत्र का तापमान अपने आप कम होता है ,वर्षा अधिक होती है पेड़ अपनी छाया और फल देने में मनुष्य की तरह भेदभाव नहीं करते हैं ।उन्होंने घेवर चंद बरड़रवा और उनकी टीम को धन्यवाद के साथ जोर देकर प्रेरणा दी कि वह इन पौधों को पाल पोष कर बड़ा जरूर करें पौधे पनपने का 60% परिणाम भी सामने आता है तो भी बड़ी उपलब्धि है  । 
वन महोत्सव मना कर लगाए 500 पौधे ओर्गेनिक कृषिफार्म का लोकार्पण

      जिला कलेक्टर ने कहा कि हम एक अदृश्य शत्रु कोरोनावायरस से लड़ रहे हैं इसके लिए सबकी मदद चाहिए सभी व्यक्ति सोशल डिस्टेंस की पालना करें मास्क लगाएं साफ सफाई रखें जागरूक रहें सभी स्वस्थ रहें और दूसरे लोगों को भी जागरूक करें सारे मिलकर काम करेंगे तो हम इस महामारी को हरा पाएंगे । 
    पदमश्री हिम्मताराम भाम्भू ने बताया कि पर्यावरण बचाने के लिए प्रकृति के सभी जीवो को पानी को जमीन को शुद्ध रखना होगा उन्होंने जैविक खेती पर जोर दिया और पर सभी किसानों को पेड़ लगाने के लिए आह्वान किया श्री भाम्भू ने कहा कि सुथार समाज लकड़ी का काम करके ही आगे बढ़ा है और उनके जीवन में लकड़ी का अतिरिक्त महत्व है इसलिए प्रत्येक सुथार परिवार कम से कम एक एक हजार पौधे अपने खेतों में अवश्य लगाएं। उन्होने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण को लेकर आज पूरा विश्व चिंतित है उसमें हमें भी पूरा योगदान देने की आवश्यकता है ।उन्होंने खेजड़ी का महत्व बताया इस पुनीत कार्य के लिए गंठीलासर  के लोगों को धन्यवाद दिया ।
       श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा प्रदेश संस्था राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष रामरतन बिश्नोई ने कहा कि मनुष्य कपड़ों के बिना आजीवन रह सकता है भोजन के बिना कुछ दिनों तक जिंदा रह सकता है पानी के बिना कुछ घंटों तक जिंदा रह सकता है मगर प्राणवायु के बिना एक  मिनट भी जिंदा नहीं रह सकता और प्राणवायु पेड़ पौधों से मिलती है इसलिए प्रत्येक मनुष्य का कर्तव्य है कि वह अधिक से अधिक पेड़ लगाएं पेड़ों को काटने से बचाएं वन्यजीवों को और प्रकृति की सभी वस्तुओं का संतुलन बनाए रखने में सावधानी बरतें ।
      उन्होंने कहा कि प्रकृति के पांच तत्वों में से कोई भी तत्व कम या ज्यादा होने से प्रकृति बीमार पड़ जाती है जिसके परिणाम स्वरूप कोरोना जैसे वायरस पैदा होते हैं अतिवृष्टि अनावृष्टि भूकंप अति सर्दी आदि की वजह से मानव जीवन तो क्या प्राणी मात्र का जीवन भी खतरे में पड़ जाता है इसलिए प्रकृति का संतुलन बनाए रखें । 
       सूरजमल सोलंकी ने ग्राम ताऊसर  में पेड़ लगाने की बात कही और नव आगंतुक जिला कलेक्टर का परिचय दिया ।
     अतिरिक्त जिला कलेक्टर मनोज कुमार शर्मा ने सभी को पेड़ लगाने की प्रेरणा दी और प्रत्येक व्यक्ति को पांच पेड़ लगाने का संकल्प लेने की बात कही । 
      इस अवसर पर वन मंडल के उप वन संरक्षक ज्ञानचन्द मकवाणा ने वन विभाग की विभिन्न योजनाओं पर प्रकाश डाला और पेड़ पौधों का महत्व बताया।
       गांव के सरपंच मदन लाल सुथार ने वन्य जीव संरक्षण पेड़ पौधों का महत्व और गौ सेवा के संबंध में विचार व्यक्त किए । गंठिलासर के पूर्व सरपंच किशोरी लाल सुथार पूर्व उपसरपंच हीराराम पूजारी सरपंच प्रतिनिधि जगमाल सिंह ,मोटाराम सुथार अध्यक्ष गौशाला, रोहिणी के पूर्व सरपंच सुरेन्द्र सोनी, रोहिणी के जगदीश बाहेती ,पूनमचंद भाटी,ताऊसर, भंवरसिंह मकोड़ी हरिराम सुथार चुन्नी लाल बरड़वा श्रवण राम ,पोकर राम तथा मोहनराम बरड़वा  ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
     वृक्षारोपण टीम का नेतृत्व करते हुए  घेवरचंद बरड़वा  ने सभी आगंतुकों का स्वागत एवं आभार ज्ञापित किया मौके पर उपस्थित सभी लोगों ने लोक डाउन के नियमों की पालना करते हुए एक एक पौधा लगाया लगातार चार घंटों तक चले वृक्षारोपण कार्यक्रम में 500 पौधे रोपित किए गए इस शानदार कार्यक्रम के साथ ही ऑर्गेनिक कृषि फार्म का लोकार्पण पदम श्री हिम्मताराम भाम्भू द्वारा किया गया ।


Post a Comment

0 Comments