थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई की परोक्ष हत्या मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट संदेह के घेरे में

थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई की परोक्ष हत्या मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट संदेह के घेरे में .
थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई की परोक्ष हत्या मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट संदेह के घेरे में .
थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई की परोक्ष हत्या मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट संदेह के घेरे में .


 राजगढ़ सादुलपुर के थानाधिकारी रहे विष्णुदत्त विश्नोई संदिग्ध आत्महत्या प्रकरण की जांच सीबीआई द्वारा की जा रही है। इस मामले में धीरे धीरे कई खुलासे हो रहे हैं और एक एक कर कई गंभीर बातें व घटनाक्रम  सामने आते जा रहे हैं। 
उसी क्रम में विष्णु दत्त विश्नोई की पोस्टमार्टम रिपोर्ट की संदेह के घेरे में आ रही है। हालांकि अभी तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया गया है, मगर कहीं ना कहीं से यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट मीडिया में आ चुकी है। पोस्टमार्टम विष्णु दत्त विश्नोई आत्महत्या के पश्चात करीब 24 घंटे चले आंदोलन के बाद 24 मई को प्रातः उनका पोस्टमार्टम किया गया। उस दौरान पुलिस व प्रशासन के उच्चाधिकारियों ने मीडिया के समक्ष कहा था कि पोस्टमार्टम मेडिकल बोर्ड द्वारा करवाया गया है, जिसमें मेडिकल ज्यूरिस्ट भी शामिल रहे हैं। 
चूंकि यह बात उच्चाधिकारियों द्वारा सार्वजनिक तौर पर कही गई थी इसलिए उस पर कोई आशंका नहीं रहती, मगर अब जो रिपोर्ट के बिंदू सामने आए, उस पर चहुं ओर से सवालिया निशान रहे हैं। जो मेडिकल रिपोर्ट तैयार की गई है, उसके प्रथम पेज पर एकमात्र चिकित्सक जो नाम है, वह डॉक्टर श्रवण कुमार का है। उन्हीं के द्वारा यह पोस्टमार्टम किया गया। हालांकि अंतिम पेज पर एक और डॉक्टर के भी हस्ताक्षर हैं, जो रिपोर्ट तैयार किए जाने के बाद भी करवाए जा सकते हैं ? यहां यह भी उल्लेखनीय है डॉ. श्रवण कुमार वही चिकित्सक हैं जो पोस्टमार्टम व मेडिकल रिपोर्ट बनाने के मामले में ना सिर्फ विवादित हैं, बल्कि उनके इस प्रकार के ऑडियो भी वायरल हो चुके हैं। इसके अलावा दूसरी बात यह भी है कि संदिग्ध मौत और जन आंदोलन की स्थिति के बाद करवाए गए पोस्टमार्टम मैं सिर्फ खानापूर्ति की गई नजर आती है।  पोस्टमार्टम के दौरान किसी प्रकार का विसरा लेकर एफएसएल को नहीं मिल पाया। ऐसा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लिखा हुआ है "नो सैंपल सेंड टू एफएसएल बीकानेर"  इस प्रकार की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मामला और गहराता जा रहा है। जहां एक तरफ विष्णुदत्त की मौत को ही संदिग्ध माना गया है और उनकी आत्महत्या के कारणों का कोई नया खुलासा होने की पूरी संभावना है, वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवालिया निशान उठना लाजिमी है।


 रिपोर्ट: श्याम जैन (राजगढ़) 

Post a Comment

0 Comments