राजस्थानी भाषा और साहित्य में जाम्भाणी साहित्य का योगदान' विषय पर जाम्भाणी साहित्य अकादमी के तत्वाधान में वेब संगोष्ठी 11 को

 राजस्थानी भाषा और साहित्य में जाम्भाणी साहित्य का योगदान' विषय पर जाम्भाणी साहित्य अकादमी के तत्वाधान में वेब संगोष्ठी 11 को

राजस्थानी भाषा और साहित्य में जाम्भाणी साहित्य का योगदान' विषय पर जाम्भाणी साहित्य अकादमी के तत्वाधान में वेब संगोष्ठी 11 को


बीकानेर। जाम्भाणी साहित्य अकादमी बीकानेर के आठवें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य पर राजस्थानी भाषा, साहित्य और 7 नवम्बर 2020 संस्कृति अकादमी बीकानेर और जाम्भाणी साहित्य अकादमी बीकानेर के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार 11 नवम्बर को 'राजस्थानी भाषा और साहित्य में जाम्भाणी साहित्य का योगदान' विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। अकादमी के प्रेस प्रभारी पृथ्वी सिंह बैनीवाल ने बताया कि संगोष्ठी में अबतक लगभग 2500 से ऊपर पंजीकरण हो चुके हैं। संगोष्ठी 10 बजे शुरू होगी, जिससे पूर्व प्रातः 7 बजे से हवन पाहल और 10 नवंबर रात्रि 8 बजे से जागरण का आयोजन होगा। बैनीवाल ने बताया कि संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में राजस्थान सरकार के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी शिरकत करेंगे, वहीं साहित्य अकादमी दिल्ली के राजस्थानी प्रकोष्ठ व उत्तर क्षेत्र मंडल के संयोजक मधु आचार्य अध्यक्षता करेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में नोखा से विधायक बिहारीलाल बिश्नोई उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम का अकादमी के फेसबुक पेज पर लाइव प्रसारण भी होगा। उल्लेखनीय है कि अकादमी अध्यक्ष स्वामी श्री कृष्णानंद आचार्य और संरक्षक सरस्वती बिश्नोई के सानिध्य में जाम्भाणी साहित्य अकादमी, बीकानेर की स्थापना को आठ वर्ष पूर्ण हो चुके हैं।

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget