समाज की बेटी परी विश्नोई ने रचा इतिहास, बनीं आईएएस वह भी ऑल इंडिया 30वीं रैंक

समाज की बेटी परी विश्नोई ने रचा इतिहास, बनीं आईएएस वह भी ऑल इंडिया 30वीं रैंक

समाज की बेटी परी विश्नोई ने रचा इतिहास, बनीं आईएएस वह भी ऑल इंडिया 30वीं रैंक

बिश्नोइज्म न्युज, बीकानेर। आज जारी हुए आईएएस मेंस  रिजल्ट में  बिश्नोई समाज की बेटी परी विश्नोई ने ऑल इंडिया 30वीं रैंक हासिल कर बीकानेर जिले सहित पूरे प्रदेश का मान बढ़ाया है। आईएएस परी बिश्नोई के पिता  मनीराम विश्नोई है। मात्र साढ़े तेईस वर्ष की परी ने आज वो मुकाम हासिल कर लिया है जिसे जानकर प्रदेश का हर शख्स गौरवान्वित होगा, सम्भवत: परी बिश्नोई, बिश्नोई समाज की प्रथम आईएस होगी जो परिक्षा के माध्यम से सफल हुई है । आईएएस परी का परिवार मूल रूप से नोखा के काकड़ा गांव का रहवासी है व लंबे समय से बीकानेर के पवनपुरी में संयुक्त परिवार के रूप में रहता है। आईएएस परी के दादा गोपीराम विश्नोई काकड़ा के सरपंच रह चुके हैं। वहीं मां सुनीता विश्नोई पुलिस विभाग में सीआई है। पिता मनीराम पेशे से वकील हैं। परी की बारहवीं तक की शिक्षा अजमेर में सम्पन्न हुई। वहीं इसके बाद वह दिल्ली चली गई। आज जैसे ही आईएएस मेंस का परिणाम आया तो पूरा परिवार खुशियों से झूम उठा। उल्लेखनीय है कि बीकानेर से पहली बार किसी ने आईएएस परीक्षा में इतना ऊंचा मुकाम हासिल किया है। उससे भी खास बात है कि यह मुकाम हासिल करने वाली समाज की एक बेटी है।


Post a Comment

0 Comments