सथेरण के सुरजाना की राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में आज एक पौधारोपण कार्यक्रम तथा पर्यावरण संगोष्ठी का आयोजन किया गया

 सथेरण के सुरजाना की राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में आज एक पौधारोपण कार्यक्रम तथा पर्यावरण संगोष्ठी का आयोजन किया गया.

सथेरण के सुरजाना की राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में आज एक पौधारोपण कार्यक्रम तथा पर्यावरण संगोष्ठी का आयोजन किया गया


 जन सहयोग से लगवाए 300 पौधे विद्यालय विकास समिति करेगी देखरेख, सरपंच ने की बूंद बूंद सिस्टम की घोषणा.

सथेरण के सुरजाना की राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में आज एक पौधारोपण कार्यक्रम तथा पर्यावरण संगोष्ठी का आयोजन किया गया


सथेरण 8 जुलाई ।  निकटवर्ती ग्राम सुरजाना की राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में आज एक पौधारोपण कार्यक्रम तथा पर्यावरण संगोष्ठी का आयोजन किया गया। 

   मुख्य अतिथि पदमश्री हिम्मताराम भाम्भू ने कहा कि पेड़ लगाओ अभियान चलाओ और हर किसान अपने खेतों की मेड़ बंदी पर हरियाली बढ़ाओ । हरियाली के प्रभाव से समय पर वर्षा होती रहेगी और प्राणी मात्र को प्राणवायु मिलती रहेगी जिससे सभी का जीवन सुरक्षित होगा। खेजड़ी, रोहिडा ,पीपल, वटवृक्ष नीम,सरेस शीशम आदि पेड़ लगाकर किसानों को अपनी खुशहाली बढ़ानी चाहिए ।उन्होंने उपस्थित सभी लोगों को खेतों में पेड़ लगाने की प्रेरणा दी और भावी पीढ़ी को जागृत होने का संदेश दिया । पदमश्री भाम्भू ने आपसी भाईचारा बनाए रखने,गांव का विवाद गांव में ही निपटाने,थाना कचहरी नहीं जाने , भावी पीढ़ी को शिक्षित करने और नशा मुक्त जीवन जीने की प्रेरणा दी । उन्होंने नशों से होने वाली हानि और परिवारों की बर्बादी का सटीक भाषा में  चित्रण किया। सरपंच तथा जनप्रतिनिधियों से भी अपील की कि मनरेगा के अंतर्गत अधिक से अधिक वृक्षारोपण करवाया जावे।

    श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा प्रदेश संस्था के प्रदेशअध्यक्ष रामरतन बिश्नोई ने संगोष्ठी की अध्यक्षता की ।। 

   उन्होंने कहा कि कोई भी मनुष्य प्रकृति के साथ छेड़छाड़ नहीं करें। प्रकृति की सेवा तथा संरक्षण करने का काम करें । श्री विश्नोई ने कहा कि वन्यजीवों की सुरक्षा करना, शिकार पर अंकुश लगाना, वन्यजीवों के हक पर कब्जा नहीं करना ,पेड़ लगाते रहना, पेड़ों की कटाई को रोकना और प्रकृति के संतुलन को बनाए रखकर मानव धर्म निभाना मनुष्य का  सर्वश्रेष्ठ कर्तव्य होता है । उन्होंने कहा कि जांभोजी ने बलिदान देकर भी प्रकृति व वन्य जीवो को बचाना आवश्यक बताया था ।

    विद्यालय विकास समिति के माध्यम से जन सहयोग लेकर धन संग्रह के द्वारा विद्यालय प्रांगण की तारबंदी करवाने ,उसका गेट बनवाने और पेड़ लगाकर देख रेख करने का जिम्मा लेने वाले लोगों को धन्यवाद दिया और विद्यालय के बच्चों को वृक्षारोपण के लिए प्रशिक्षण देने व प्रेरणा देने की बात कही ।

     ग्राम पंचायत मुंडासर के सरपंच वीरेंद्रपालसिंह कड़ेला ने वृक्षों की देखरेख करने और उनकी सिंचाई के लिए बूंद बूंद सिस्टम लगाने की घोषणा की। आगंतुकों का आभार ज्ञापित करने के साथ ही उपस्थित जनसमूह को अधिक से अधिक पेड़ लगाने की प्रेरणा दी। ग्राम पंचायत सथेरण के सरपंच रामस्वरूप बिश्नोई ने सभी  सार्वजनिक स्थानों तथा विद्यालयों में भी पेड़ लगाने की आवश्यकता बताई और उपस्थित लोगों को पेड़ लगाने का संकल्प दिलाया। 

       विद्यालय के प्रधानाध्यापक ओमप्रकाश देवाल ने आगंतुकों का स्वागत किया, मंच संचालन किया और पौधों को बड़ा करने के लिए आत्मविश्वास के साथ भरोसा दिलाया ।     

    संगोष्ठी के प्रारंभ में अतिथियों को माला व साफा पहनाकर स्वागत किया गया । विधिवत पूजन व वृक्षराज के जयकारों  के साथ पौधा लगाकर वृक्षारोपण अभियान की शुरुआत की गई । ग्राम पंचायत मुंडासर के उपसरपंच छैलू सिंह ,गांव के बाल कलाकार अनिल नागौरी, अध्यापक रोहिताश मेघ व दौलत राम ,कनिष्ठ लिपिक हिम्मताराम व  विनोद माल ,कांस्टेबल रामनिवास मेहरा गणमान्य नागरिक जसमल इण्दलिया ,पूनमचन्द विश्नोई, हेमाराम मेहरा ,रामेश्वर लाल मेहरा ,मगाराम ईंदलिया ,बाबूलाल बिश्नोई, मगाराम जांगिड़ रामूराम जांगिड़ भंवरलाल जांगिड़, फोटोग्राफर ओमप्रकाश जांगिड़ सहित उपस्थित सभी लोगों ने अपने हाथों से एक-एक पौधा लगाया। इसके साथ ही उपस्थित विद्यार्थी और ग्रामीणों ने रुचि के साथ कड़ी मेहनत करके  विद्यालय प्रांगण में आज 300 पौधे रोपित किए ।संगोष्ठी और वृक्षारोपण कार्यक्रम में ग्रामीणों का उत्साह देखते ही बन रहा था । वृक्षारोपण के साथ ही इंद्र भगवान मेहरबान हुए और हल्की बारिश से मौसम भी सुहावना हुआ । उल्लेखनीय है कि इस वर्ष ग्राम सथेरण की सीमा में ज्येष्ठ माह में ही प्रथम  वर्षा हो जाने के कारण बाजरी व तिल की फसलें जोरदार है । कुछ लोगों ने श्रावण माह की बारिश से भी मूंग,मोठ,ग्वार की फसलें बोई है ।


- रामरत्न बिश्नोई

Post a Comment

0 Comments